राधा और कृष्ण

Published by Team Kaithal Online on

राधा-कृष्ण की अलौकिक प्रेम कहानी से हर कोई परिचित है। उन दोनों का मिलना और फिर मिलकर बिछड़ जाना, शायद यही उन दोनों की नियति थी। पौराणिक कथाओं में कृष्ण को रासलीला करते दर्शाया गया है, उन्हें एक प्रेमी और कुशल कूटनीतिज्ञ के रूप में प्रदर्शित किया गया है वहीं राधा को हर समय कृष्ण के प्रेम में डूबी हुई प्रेमिका के तौर पर वर्णित किया गया है। राधा और कृष्ण की प्रेम कहानी बचपन में ही शुरू हो गई थी। राधा उम्र में कृष्ण से बड़ी भी थीं लेकिन प्रेम उम्र के दायरे में बंधकर नहीं रह सकता। राधा और रुक्मिणी, कृष्ण के जीवन की दो बड़ी महत्वपूर्ण महिलाएं थीं, एक ने कृष्ण से प्रेम भी किया और विवाह भी, वहीं राधारानी सिर्फ प्रेमिका बनकर ही रह गईं।ये बात तो हम अकसर सुनते आए हैं कि राधा और कृष्ण केवल प्रेमी-प्रेमिका थे, उन दोनों का वैवाहिक नहीं बल्कि आध्यात्मिक रिश्ता था। लेकिन क्या वाकई ये बात सच है कि कृष्ण का उनकी प्रेयसी राधा के साथ विवाह नहीं हुआ था?
आज हम आपको कृष्ण और राधा के जीवन से जुड़े कुछ ऐसे आधात्मिक सत्य बताने जा रहे हैं जिन्हें बहुत से लोग नहीं जानते, ये सत्य वाकई आपको हैरान कर देंगे।
पुराणों के अनुसार राधा के रूप में देवी लक्ष्मी ने धरती पर अवतार लिया था। साथ ही ये बात भी जग जाहिर है कि भगवान कृष्ण स्वयं विष्णु जी के अवतार थे।ये बात स्वयं देवी लक्ष्मी ने कही थी कि भगवान विष्णु के अलावा अन्य किसी के साथ उनका विवाह नहीं होगा, स्पष्ट है कि राधा ने अवश्य ही कृष्ण से विवाह किया होगा। गर्ग संहिता के अनुसार राधा और कृष्ण का विवाह स्वयं ब्रह्मा जी ने करवाया था। नंद बाबा अपने पुत्र कृष्ण को गोद में उठाकर भंडीर ग्राम ले जाया करते थे। एक दिन कृष्ण उनकी गोद में खेल रहे थे कि अचानक तेज रोशनी और तूफान आ गया।
असपास सिर्फ और सिर्फ अंधेरा छा गया और उस अंधेरे में नंद बाबा को किसी पारलौकिक शक्ति का अनुभव हुआ।वह शक्ति और कोई नहीं बल्कि स्वयं राधारानी थीं। राधा के आते ही भगवान कृष्ण ने भी अपने बाल रूप को त्यागकर किशोर रूप धारण कर लिया। इसी समय भंडीर जंगल में ब्रह्मा जी ने ललिता और विशाखा की उपस्थिति में राधा और कृष्ण का विवाह करवाया था।
विवाह होते ही माहौल पहले की ही तरह सामान्य हो गया। राधा, ब्रह्मा, ललिता, विशाखा सभी अंतर्ध्यान हो गए और कृष्ण भी अपने बाल रूप में वापस लौट गए।एक अन्य पौराणिक कहानी के अनुसार रुक्मिणी और राधा दो नहीं बल्कि एक ही शख्सियत थीं। इसके लिए भी कई तथ्य प्रस्तुत किए गए हैं। कृष्ण और रुक्मिणी का विवाह तो हुआ था, लेकिन ये विवाह क्यों हुआ इस बारे में सोचना भी बहुत आवश्यक है।
कथाओं के अनुसार जिस तरह राधा बचपन से ही कृष्ण को अपना जीवनसाथी बनाना चाहती थीं, कुछ वैसे ही रुक्मिणी भी कृष्ण के साथ विवाह के सपने देखती थीं। परंतु रुक्मिणी के भाई, शिशुपाल के साथ विवाह संबंध तय कर चुके थे। रुक्मिणी ने अपने भाई से कह भी दिया था कि अगर उनका विवाह कृष्ण के अलावा किसी अन्य व्यक्ति से करने की कोशिश की गई तो वह अपनी जान दे देंगी। कृष्ण ना तो रुक्मिणी से कभी मिले थे, ना ही उन्हें जानते थे, अचानक कैसे वे उनसे विवाह करने पहुंच गए?
कृष्ण के इस कदम ने ही यह संदेह उत्पन्न किया कि रुक्मिणी और राधा एक ही थीं। यहां रुक्मिणी को राधा का ही आध्यात्मिक अवतार माना गया है। शायद यही वजह है कि जब राधा का नाम आता है तो वहां रुक्मिणी नहीं होतीं और जहां रुक्मिणी का नाम आता है वहां राधा नहीं होतीं।
परंतु राधा और कृष्ण के विवाह से अलग एक अन्य कहानी ये बताती है कि राधा का विवाह कृष्ण से नहीं बल्कि अभिमन्यु से हुआ था….!!
एक पौराणिक कहानी के अनुसार जतिला नाम की एक गोपी जावत गांव में रहती थी। योगमाया के कहने पर जतिला के पुत्र अभिमन्यु का विवाह राधा के साथ संपन्न हुआ था।
लेकिन योगमाया के ही प्रभाव की वजह से अभिमन्यु कभी अपनी पत्नी राधा को छू तक नहीं पाया था। दरअसल अभिमन्यु अपने दैनिक कार्यों में अत्याधिक व्यस्त रहता था और शर्म के कारण कभी अपनी पत्नी से बात नहीं कर पाता था।
राधा और श्रीकृष्ण ने प्रेम नहीं किया था उनके बीच आध्यात्मिक रिश्ता था, उनका प्रेम अमर था। श्रीला प्रभुपाद ने राधा और कृष्ण के प्रेम संबंध को परकीया, यानि दुनियावी प्रेम से ऊपर सर्वोच्च प्रेम संबंध का नाम दिया था।

Categories: FeedStories

0 Comments

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *